Advertisements
News Ticker

फ़िनलैंडः अब स्कूलों में ‘सब्जेक्ट’ नहीं, ‘टॉपिक’ के आधार पर होगी पढ़ाई

john--फ़िनलैंड की आबादी मात्र 55 लाख है। लेकिन इस छोटे से देश ने शिक्षा के क्षेत्र में जो कीर्तिमान स्थापित किये हैं, उसका लोहा पूरी दुनिया मानती है। सालों तक फ़िनलैंड ने अपनी सफल शिक्षा व्यवस्था से दुनिया के विभिन्न देशों का ध्यान आकर्षित किया है। इसके साथ-साथ फिनलैंड नेे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर होने वाले असेसमेंट में साक्षरता और गणित के क्षेत्र में भी अपना दबदबा कायम रखा है।

केवल सिंगापुर और चीन ने प्रोग्राम फ़ॉर इंटरनैशनल स्टूडेंट असेसमेंट (पीआईएसए) में इस देश से बेहतर प्रदर्शन किया है। विभिन्न देशों के राजनीतिज्ञ और शिक्षा विशेषज्ञ  फ़िनलैंड का दौरा इसकी सफलता का रहस्य जानने के लिए करते हैं। अभी फ़िनलैंड साल 2020 तक स्कूलों की शिक्षा व्यवस्था में बड़े बदलाव की तैयारी कर रहा है।

यहां की शिक्षा व्यवस्था में होने वाले आमूल-चूल बदलाव पर दुनियाभर की नज़रें टिकी हैं। इसमें विषय के आधार पर होने वाली पढ़ाई (teaching by subject) की जगह टॉपिक के आधार पर पढ़ाई (teaching by topic) को वरीयता दी जाएगी। हेलसिंकी में यूथ एण्ड एडल्ट एज्यूकेशन के प्रमुख लीसा ने कहा, “यह फ़िनलैंड की शिक्षा में होने वाला एक बड़ा बदलाव होगा। हम अभी इसकी शुरुआत भर कर रहे हैं।” इस बदलाव की पहल फ़िनलैंड की राजधानी हेलसिंकी से हो रही है।

इस शहर के डेवलेपमेंट मैनेजर पैसी सिलैंडेर बताते हैं, “हमें अभी अलग तरह की शिक्षा की जरूरत है जो लोगों को रोज़मर्रा की ज़िंदगी (वर्किंग लाइफ़) के लिए तैयार कर सके। आज के युवा आधुनिक कंप्यूटर्स का इस्तेमाल कर रहे हैं। पहले बहुत से बैंकों में हिसाब-किताब रखने की जिम्मेदारी क्लर्क रखते थे, लेकिन अब चीज़ें पूरी तरह बदल गई हैं। इसलिए हम उद्योगों और आधुनिक समाज की आवश्यकताओं के अनुरूप शिक्षा में जरूरी बदलाव कर रहे हैं।”

भविष्य की तैयारी

सुबह में एक घंटे इतिहास पढ़ाने, दोपहर बात एक घंटे भूगोल पढ़ाने वाली व्यवस्था में बदलाव लाया जा रहा है। इसकी जगह टॉपिक के आधार पर पढ़ाने वाली व्यवस्था लागू की जा रही है। उदाहरण के तौर पर पर प्रोफ़ेशनल कोर्स में एक किशोर को ‘कैफ़ेटेरिया सर्विसेस’ से जुड़ा पाठ पढ़ाया जा सकता है, जिसमें गणित, भाषा (ताकि विदेशी ग्राहकों को सेवा प्रदान की जा सके), लेखन कौशल और संचार कौशल के तत्व होंगे।

वहीं ज़्यादा एकेडमिक छात्रों को अंतर्विषयक टॉपिक्स पढ़ाए जाएंगे जैसे यूरोपीय संघ, जिसमें अर्थशास्त्र, इतिहास (संबंधित देश), भाषा और भूगोल के तत्व शामिल होंगे। यहां होने वाले बदलावों में बहुत सारी अन्य बातें भी शामिल हैं। इसमें निष्क्रिय ढंग से अध्यापक के सामने बैठने वाले प्रारूप में बदलाव भी शामिल है, जिसमें छात्र पाठ को सुनते हैं और सवाल पूछे जाने का इंतज़ार करते हैं। इसकी बजाय एक ज़्यादा सहयोगात्मक रवैया अपनाया जाएगा जहाँ छात्र छोटे समूहों में बैठकर समस्याओं का समाधान करेंगे (problem solving skill) और साथ ही साथ अपना संचार कौशल (communication skill) भी बेहतर करेंगे।

फ़िनलैंड के शहर हेलसिंकी के एज्यूकेशन मैनेजर मार्जो केलोनेन इस महीने के आख़िर तक शिक्षा में होने वाले व्यापक बदलाव की रूपरेखा पेश करेंगी। उन्होंने कहा, “यह बदलाव केवल हेलसिंकी में नहीं बल्कि पूरे फ़िनलैंड में लागू होंगे।” हमें वाकई शिक्षा के बारे में नए सिरे से सोचने और व्यवस्था को रीडिज़ाइन करने की जरूरत है ताकि हमारे बच्चे भविष्य के कौशल सीख सकें जो आज और भविष्य के लिए जरूरी है।

‘अब वापस नहीं लौट सकते’

यहां बहुत सारे स्कूल हैं जो पुराने तरीके से पढ़ा रहे हैं जो 19वीं शताब्दी की शुरुआत से लाभदायक साबित हुआ था – लेकिन अब जरूरतें पहले जैसी नहीं है और हमको ऐसी व्यवस्था चाहिए जो 21वीं सदी के अनुकूल हो। छात्रों को ‘परीक्षा की फ़ैक्ट्री’ में धकेलने से बेहतर होगा कि हम बच्चों में संचार कौशल और अन्य क्षमताओं का विकास करें।

ऐसा नहीं है कि फ़िनलैंड में इन सुधारों का स्वागत ही हो रहा है। शिक्षकों और संस्था प्रमुखों की तरफ़ से इन बदलाओं पर आपत्ति जताई जा रही है, जिन्होंने अपनी पूरी ज़िंदगी किसी विषय विशेष पर लगा दी, अब उनसे अपना नज़रिया बदलने के लिए कहा जा रहा है। इस नई व्यवस्था को अपनाने वाले शिक्षकों के वेतन में थोड़ी बढ़ोत्तरी की जाएगी।

सिलैंडेर कहते हैं कि हेलसिंकी शहर के 70 फ़ीसदी से ज़्यादा स्कूलों के शिक्षकों को नए तरीके अपनाने के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा है। उन्होंने कहा, “हमने वास्तव में लोगों का माइंडसेट (पूर्वाग्रह) बदलने में कामयाबी पाई है। शिक्षकों की तरफ़ से शुरुआत करवाना और पहला क़दम उठाना वाकई मुश्किल है….लेकिन जिन शिक्षकों ने नए तरीके को अपनाया है उनका कहना है कि अब वे वापस नहीं लौट सकते।”

बदलाव के नतीजे

इस बदलाव को लेकर हुए अध्ययन के शुरुआती आँकड़े दर्शाते हैं कि इस बदलाव से छात्रों को लाभ हो रहा है। इस शिक्षण पद्धति के लागू होने के दो साल बाद छात्रों का ‘आउटकम’ बेहतर हुआ है। वहां के स्कूलों में इस ‘टॉपिक आधारित शिक्षण’ को कम से एक बार लागू करने को कहा गया है। हेलसिंकी में इन सुधारों को तेज़ी के साथ लागू किया जा रहा है और स्कूलों को प्रोत्साहित किया जा रहा है कि नए तरीके से पढ़ाने के लिए वे दो क्लॉस अवश्य लें। फ़िनलैंड के स्कूलों में इन सुधारों को 2020 तक लागू किया जाएगा। इस बीच प्री-स्कूल सेक्टर में भी इन बदलावों को नवाचारी प्रोजेक्ट के माध्यम से अपनाया जा रहा है, प्लेफुल लर्निंग सेंटर (पीएलसी) भी कंप्यूटर गेम इंडस्ट्री के साथ बातचीत कर रही है ताकि छोटे बच्चों के लिए ‘खेल’ के माध्यम से सिखाने के नये तरीके की खोज हो सके।

पीएलसी प्रोजेक्ट के निदेशक ओलावी मेंटानेन कहते हैं, “हम फ़िनलैंड को बच्चों के सीखने से संबंधित खेल का समाधान देने वाले अग्रणी देशों में शामिल करना चाहेंगे।” फ़िनलैंड जब अपनी शिक्षा व्यवस्था में  इन बदलावों को जगह दे रहा होगा तो शैक्षिक जगत की निगाहें उसके ऊपर टिकी होंगी। क्या यह अपनी पीसा (पीआईएसए) रैंकिंग को बरकरार रखने में कामयाब होगा? अगर ऐसा होता है तो शैक्षिक जगत की प्रतिक्रिया क्या होगी? यह देखने लायक होगा।

साभारः द इंडिपेंडेंट पर प्रकाशित रिपोर्ट “Finland schools: Subjects scrapped and replaced with ‘topics’ as country reforms its education system” 20/03/2015

Advertisements

1 Comment on फ़िनलैंडः अब स्कूलों में ‘सब्जेक्ट’ नहीं, ‘टॉपिक’ के आधार पर होगी पढ़ाई

  1. ईश्वरी कुमार सिन्हा // February 5, 2016 at 8:03 am //

    समयानुकूल बदलाव निहायत जरुरी है

इस पोस्ट के बारे में अपनी टिप्पणी लिखें।

%d bloggers like this: