Trending

August 2015

अर्ली लिट्रेसीः क्या हैं मायने?

बचपन की साक्षरता (अर्ली लिट्रेसी) के बारे में प्रोफ़ेसर कृष्ण कुमार कहते हैं कि पढ़ना एक ऐसा बुनियादी कौशल है। जिसके ऊपर बच्चों का शेष विकास निर्भर करता है। इसलिए बच्चों के स्वाभाविक विकास की प्रक्रिया में पढ़ना-लिखना सिखाना बेहद महत्वपूर्ण है। [...]

August 29, 2015

नज़रियाः 110 बच्चों को एक कालांश में पढ़ाते हैं एक शिक्षक

तीन कक्षाओं को हिंदी पढ़ाने के लिए एक शिक्षक को मात्र एक कालांश मिला है क्योंकि आठवीं तक के इस विद्यालय में मात्र पाँच शिक्षक हैं। मगर इनकी सोच और काम करने का नज़रिया काबिल-ए-तारीफ़ है। पढ़िए पूरी कहानी इस पोस्ट में। [...]

August 23, 2015