निजी स्कूलों की स्थिति