भारत में शिक्षा की चुनौतियां

शिक्षक प्रोत्साहन सिरीजः ‘बिना शिक्षक के जिंदगी, मानो बिन पंखों वाली चिड़िया’

दीपिका एजुकेशन मिरर की नियमित पाठक और लेखक हैं। जश्न ए बचपन से जुड़ी दीपिका की यह कहानी पढ़िए और लिखिए अपनी टिप्पणी। [...]

एजुकेशन टेक्नोलॉजी: शिक्षा पर संवाद के लिए कितने प्रासंगिक हैं ‘ह्वाट्सऐप ग्रुप’?

व्हाट्सऐप के विभिन्न समूहों में शैक्षिक उद्देश्यों से जुड़ने के आपके क्या अनुभव हैं? क्या ग्रुप में शिक्षा से जुड़े मुद्दों पर चर्चा होती है? [...]

उत्तर प्रदेशः 69000 सहायक शिक्षकों की भर्ती का रास्ता साफ, तीन महीने में प्रक्रिया पूरी करने का निर्देश’

इस फैसले पर पहली प्रतिक्रिया देते हुए एक शिक्षक ने कहा, "आज कितने ही घरों में खुशी की लहर होगी इसे शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता।" [...]

कहानीः सदमा

यह मार्मिक कहानी दसवीं कक्षा की छात्रा डौली भट्ट ने लिखी है। जरूर पढ़ें। [...]

पुस्तक चर्चाः ‘शिक्षा के सवाल हमारे जीवन के सवाल हैं’

इस किताब के बारे में दीपिका लिखती हैं, "यह पुस्तक हर उस व्यक्ति को पढ़नी ही चाहिए जो पढ़ने लिखने की संस्कृति को बचाए रखने के लिए प्रयास कर रहे हैं।" [...]

कहानीः बिस्कुट

नीलू उस कुत्ते के बच्चे के साथ खेलने लग जाता है। तभी उसे याद आता है कि उसने कूड़ेदान से बिस्कुट उठाए थे। क्या वे बिस्कुट इस कुत्ते को दे दे? [...]

Movie शब्द का प्रचलन कैसे शुरू हुआ?

(इस सीरीज़ के लेखक मिर्ज़ा ए बी बेग हैं। आप पत्रकार और लेखक होने के साथ-साथ अनुवादक भी हैं। हिन्दी, अंग्रेजी और उर्दू तीनों भाषाओं में अधिकार के साथ लिखते हैं। [...]

लाइब्रेरी में किताबों का संग्रह बढ़ाना चाहते हैं तो ‘पराग ऑनर लिस्ट’ के लिए करें आवेदन

अगर आप अपने विद्यालय या समुदाय में संचालित होने वाली लाइब्रेरी के संग्रह को बढ़ाना चाहते हैं तो यह पोस्ट जरूर पढ़ें। [...]

#रीडिंगमेला : UP के प्राथमिक विद्यालयों में पढ़ने की संस्कृति को प्रोत्साहित करेगा ‘रीडिंग मेला’

उत्तर प्रदेश के परिषदीय विद्यालयों में पढ़ने के कौशल को विकसित करने व पढ़ने की आदत को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से रीडिंग मेला का आयोजन किया जा रहा है। [...]

स्कूल लायब्रेरीः किताबों से बच्चों का काबिल-ए-तारीफ प्यार

स्कूल लायब्रेरी से मनपसंद किताबें छाँटते बच्चों की ख़ुशी देखने लायक थी, जो थोड़ी देर पहले नाराजगी के कह रहे थे कि हम बची-खुची किताबें क्यों ले? अब उन्हीं बच्चों के चेहरे पर नाराजगी की जगह ख़ुशी के भाव तैर रहे थे। [...]
1 2