Advertisements

पड़ोस की चिड़िया भूखी न रहे, इसके लिए क्या करें?

एक दिन हमारे गाँव के स्कूल में चिड़ियों को दाना खिलाने के लिए ‘अक्षयपात्र’ रखने की शुरू हुई. इसके लिए हर बच्चे को अपने घर से एक मुट्ठी दाना ला करके ‘अक्षयपात्र’ में डालना को कहा गया. हेड मास्टर जी बच्चों से कहा, “हमें पशु-पक्षियों से प्रेम करना चाहिए. हम स्कूल में चिड़ियों को दाना खिलाने की शुरुआत कर रहे हैं ताकि स्कूल के आंगन में आने वाली कोई चिड़िया भूखी न रहे.”

स्कूल की असेंबली के दौरान बच्चों से होने वाली बातचीत मन को छूने वाली थी. मगर जब बच्चों से पूछा गया कि उस दिन कौन-कौन अपने घर से चिड़ियों के लिए दाना लेकर आया था ? तो जवाब में सारे बच्चे इस उम्मीद में पीछे मुड़कर देख रहे थे कि शायद कोई चिड़ियों के लिए दाना लेकर आया हो.

एक दिन पहले ही स्कूल के सभी बच्चों से चिड़ियों के लिए अपने-अपने घर से एक-एक मुट्ठी दाना लाने के लिए कहा गया था.

चिड़ियों को दाने

मुझे लगा कि अगर बच्चों को यह बात समझ आती है कि चिड़ियों के लिए दाना क्यों लाना है? तो फिर वे यह काम ख़ुशी-ख़ुशी करेंगे. लेकिन इसके लिए अध्यापकों की तरफ़ से उनको प्रेरित करने वाला व्यवहार भी होना चाहिए. केवल बातों के माध्यम से सारी बात समझाने की कोशिश शायद सफल नहीं होगी. बच्चे भी तो जानवरों और पक्षियों के काफ़ी करीब हैं. अपने घरों में वे उनको करीब से देखते हैं और आस-पड़ोसी की चिड़ियों के उनके नाम, रंग और आवाज़ से पहचानते हैं. इसलिए मार्निंग असेंबली के बाद बच्चों से बात हुई कि हमें स्कूल में इस तरह के कार्यक्रम की जरूरत क्यों पड़ी?

आठवीं की कक्षा के बच्चे आपस में बातचीत कर रहे थे. पहली घंटी में उनसे बातचीत का सिलसिला इस सवाल के साथ शुरू हुआ कि चिड़ियों के लिए दाना लाना क्यों जरूरी है ? तो उन्होनें जवाब दिया चिड़ियों के खाने के लिए…. मैनें कहा बिल्कुल ठीक है. मैंने कहा हम सुबह घर से नाश्ता करके निकलते हैं. स्कूल में आकर दोपहर में सबके साथ खाना खाते हैं. बीच-बीच में बाहर जाकर पानी पीते हैं. इस तरीके से पूरे दिन हमारा काम चल जाता है. चिड़ियों को भी तो भूख लगती होगी? उनको भी तो प्यास लगती होगी? उनकी भूख और प्यास के बारे में कौन सोचेगा? तो उन्होनें कहा कि हम सोमवार से (दो दिन बाद) दाना लेकर आएंगे. तो मुझे लगा कि इस एक पंक्ति से बच्चों को सोचने का मौका दिया जाए.

सूरज की रौशनी के लिए हम कितने पैसे देते हैं?

फिर मैनें पूछा किस-किस के घर में पालतू जानवर हैं तो जवाब में हर किसी के हाथ ऊपर थे. तो मैनें पूछा कि गाय, भैंस, बकरी को हम चारा क्यों खिलाते हैं क्योंकि हमें उनसे फायदा होता है? वे हमें दूध देती हैं. मुर्गी को हम दाना इसलिए खिलाते हैं क्योंकि मुर्गियां अण्डे देती हैं. मुर्गे का मांस खाया जाता है. तो क्या इसका मतलब है कि इंसान जहां तक संभव हो हर काम अपने फ़ायदे के लिए करता है. वह उन्हीं जानवरों को दाना-पानी देने का इंतजाम करता है जो पालतू होते हैं. हम तो बाकी सारे जानवरों और चिड़ियों के लिए दो दिन बाद दाना लाना चाहते हैं. क्या हम घर के खूंटे पर बंधी गाय, भैंस को दो-तीन दिन बाद पानी पिलाते हैं ? तो जवाब मिला नहीं रोज़ चारा-पानी देते हैं.

इस बातचीत से बच्चों के मन का संवेदनशील कोना सक्रिय हो उठा. उनको लगा कि दो दिन बाद दाना लाने की बात शायद ग़लती से निकल गई है. बस फिर क्या था सबने एक साथ कहा कि कल से हम लोग दाना लेकर आएंगे. यह जवाब देते समय बच्चों का आत्मविश्वास देखने लायक था. बात आगे बढ़ी कि हमें सूरज से क्या-क्या मिलता है तो जवाब मिला रौशनी और उष्मा. इसके बाद मैनें फिर पूछा कि किस-किस के घर में बिजली लगी हुई है. तो कुछ लोगों ने हाथ उठाया तो मैने पूछा कि हर महीने कितने रूपए का बिल आता है तो जवाब मिला दो सौ-तीन सौ. मैने पूछा कि सूरज से मिलने वाली रौशनी और गर्मी के लिए  हमको कितने पैसे देने होते हैं. तो सबने कहा कि यह तो फ्री होता है.

मैंने कहा  मान लो एक दिन सूरज आदमी का भेष धरकर हमारे सामने आए और बोले कि अगले साल से सबको हर साल एक रूपए महीने किराया देना होगा. हमारे देश की जनसंख्या तो एक अरब से ऊपर है तो हमको हर साल एक अरब रुपए सूरज को रौशनी और उष्मा के बदले देना होगा. तो उनको अहसास हो रहा था कि प्रकृति हमको कितना कुछ मुफ़्त में उपहार स्वरूप दे रही है. आख़िर में हम सबको लग रहा था कि शायद हम उस मूल भावना को भूल गए हैं कि हमें भी प्रकृति का हिस्सा होने के नाते कुछ काम निःस्वार्थ भाव से करते रहना चाहिए. ताकि सूरज को रौशनी का किराया वसूलने के लिए धरती पर न आना पड़े.

शायद प्रकृति भी चाहती है कि पास की चिड़िया और जानवर भूखे न रहें. इसलिए हम अक्षय पात्र रखने और उसमें रोज़ना दाना डालने और प्याऊ में पानी रखने की बात कर रहे हैं. शहरों के लिए तो यह बात और ज़्यादा जरूरी लगती है. बच्चों से प्रकृति के लिए सहज अनुराग की भावना के बारे में बात करते हुए मुझे अल्बेयर कामू की याद आ रही थी.

Advertisements

5 Comments on पड़ोस की चिड़िया भूखी न रहे, इसके लिए क्या करें?

  1. शुक्रिया विवेक जी, अपनी बात कहने के लिए।

  2. Vivek Kumar Singh jha // September 26, 2017 at 4:55 am //

    Bahut badhiya aajkal ki siksha ki sabse badi kami yahi hai naitikta aur manavta Ka aabhav.bachche prakriti toh dur apne maa baap Ka ijjat karna bhul gaye hai.hamare pass Jo kuch bhi hai unhi parmatma Ka diya hai.so hamei parmatma Ka ehsanmand hona chahiye.

  3. बहुत-बहुत शुक्रिया संगीता जी और अमृता जी। सरकारी स्कूलों को बेहतर बनाने के लिए नियोजन और प्रधानाध्यापक नेतृत्व पर काम कर रहा हूं। इसके लिए हमें कुछ स्कूलों में जाना होता है। स्कूल को समझने के लिए बच्चों के साथ बातचीत करना बहुत जरूरी होता है। यह बातचीत भी उसी कड़ी का एक हिस्सा थी। यह बातचीत इतने रोचक मोड़ तक पहुंच जाएगी मुझे भी इस बात का अंदाजा नहीं था।

  4. काश ! पूरी पृथ्वी पर शिक्षण-कर्म को नैतिक धर्म मानकर आपकी तरह ही किया जाता…

  5. बहुत खूबसूरती से बच्चों को प्रेरित किया

Leave a Reply