Advertisements
News Ticker

लेख या कोई किताब पढ़ते समय नोट्स लेना क्यों जरूरी है?

youth-leadership-event-in-churuआज के दौर को ‘सूचनाओं के विस्फ़ोट’ का समय भी कहा जाता है। विभिन्न सोशल मीडिया के माध्यमों और ह्वाट्सऐप के जरिये विभिन्न लेखों, आर्टिकल और किताबों से हमारा सामना बहुत तेज़ी से होता है। किसी लेख की कुछ पंक्तियां हमें काम की लगती हैं, हम सोचते हैं कि इसे फिर से देख लिया जायेगा।

नई सूचनाओं का सिलसिला जारी है

लेकिन यह फिर से देखने वाला समय शायद दोबारा नहीं आता है। क्योंकि हर दिन हमारे सामने सूचनाओं, लेखों, जानकारियों, नवाचारों और शोधों का नया जख़ीरा आ रहा होता है। अबतक हम पुरानी सीखी बातों को अमल में भी नहीं ला पाए होते हैं कि कोई नया विचार फिर से हमारे सामने आ खड़ा होता है।

हम किसी किताब के कुछ पन्ने पढ़ते हैं, फिर अचानक से फ़ोन की घंटी बजती है और हम सामने वाले इंसान से बात करने लग जाते हैं। ऐसी स्थिति में पढ़ने का सिलसिला टूट जाता है और किताब के विचारों के साथ सक्रिय रूप से संवाद करने वाली परिस्थिति फिर से सामान्य परिस्थिति में तब्दील हो जाती है, जहाँ हम फिर से रोज़मर्रा की प्राथमिकताओं में उलझ जाते हैं।

विचारों पर अमल का रास्ता क्या है?

ऐसे में सवाल उठता है कि हमें क्या करना चाहिए? ताकि हम विचारों को क्रिया में तब्दील कर सकें। इस प्रक्रिया से मिलने वाली ख़ुशी को अफनी ज़िंदगी का हिस्सा बना सकें। इस स्थिति का सबसे उत्तम और आसान तरीका है नोट्स लेना।

ऐसे लोग जिनका विचारों की दुनिया से वास्ता है, वे नोट्स लेते हैं। ताकि उसे फिर से पलटकर देख सकें। ऐसे में उनको अपने विचारों को ज्यादा व्यवस्थित ढंग से साझा करने और जरूरत पड़ने पर याद करने में मदद मिलती है।

विचारों का नोट्स लेना एक अच्छी आदत है

शिक्षकों की आंतरिक प्रेरणा और पेशेवर विकास के लिए काम करने वाले सौरभ चांडक कहते हैं, “जब भी कोई नया विचार हमारे मन में आये तो हमें उसे डायरी में नोट कर लेना चाहिए। इसके साथ ही हमें तारीख़ और स्थान भी लिख लेना चाहिए। इससे अपनी डायरी को दोबारा पलटते हुए वे चीज़ें फिर से याद आ जाएंगी।”

चीज़ों को भूलने वाले दौर में स्मृति पर बहुत ज्यादा निर्भर रहने वाला उनका सुझाव ग़ौर करने लायक है। इसी तरीके से कुछ लोगों की आदत होती है कि वे किसी मीटिंग के दौरान होने वाली चर्चा को प्वाइंट्स में नोट करते हैं, जबकि जरूरी बातों को दर्ज़ करने के लिए पूरे वाक्य को लिख लेते हैं ताकि उस विचार प्रक्रिया के साथ भागीदारी कर सकें।

आप अपनी रचनात्मक ज़िंदगी को आसान बनाने के लिए कौन से उपाय काम में लेते हैं, साझा करिए एजुकेशन मिरर के साथ। ताकि अन्य दोस्तों को भी आपके विचारों से मदद मिल सके।

 

Advertisements

1 Comment on लेख या कोई किताब पढ़ते समय नोट्स लेना क्यों जरूरी है?

  1. Anonymous // January 2, 2018 at 5:09 pm //

    Happy new year 2018

इस पोस्ट के बारे में अपनी टिप्पणी लिखें।

%d bloggers like this: