Advertisements
News Ticker

‘ब्रेन बेस्ड लर्निंग’ क्या है?

‘ब्रेन बेस्ड लर्निंग’ का अाशय उन शिक्षण विधियों, पाठ योजनाओं और विद्यालय से जुड़े कार्यक्रमों से है जो मस्तिष्क के सीखने संबंधी नवीन वैज्ञानिक शोधों पर आधारित है।

इसमें संज्ञानात्मक विकास जैसे कारकों को शामिल किया जाता है। उदाहरण के तौर पर स्कूल जाने वाले छात्र जैसे-जैसे बड़े होते हैं, सामाजिक, भावनात्मक और संज्ञानात्मक रूप से परिपक्व होते हैं उनके सीखने के तौर-तरीकों में क्या अंतर आता है।

ब्रेन बेस्ड लर्निंग (बीबीएल) में इस पहलू पर भी ध्यान दिया जाता है कि अधिगम में  संवेगों, तनाव और खतरों की क्या भूमिका होती है। सबसे पहली बात हमारा मस्तिष्क एक समानांतर प्रासेसर की तरह से काम करता है।

एक समय में केवल एक निर्देश

बीबीएल को लागू करने के लिए वैज्ञानिक शोध पर आधारित रणनीतियों का इस्तेमाल किया जाता है। यह दो तरह की होती हैं मैक्रो और माइक्रो। क्लासरूम में बच्चों को निर्देश देते समय एक समय में हमें केवल एक निर्देश देना चाहिए क्योंकि मस्तिष्क को निर्देशों को एक प्रक्रिया से गुजारने के लिए थोड़ा समय चाहिए। सूचना को एक प्रक्रिया से गुजारने के बाद वह स्थान, काम और काम की गुणवत्ता का निर्धारण करता है। इसलिए एक समय में एक निर्देश देना क्लासरूम में काम करने की दृष्टि से काफी अच्छी रणनीति है।

ब्रेन बेस्ड लर्निंग या बीबीएल की रणनीतियों में शारीरिक सक्रियता के ऊपर विशेष ध्यान दिया जाता है। क्योंकि सीखने की दृष्टि से शारीरिक सक्रियता बेहद जरूरी है। रवींद्रनाथ टैगोर के शिक्षा दर्शन में बच्चों के खेलने और भागदौड़ी करते हुए सीखने को विशेष महत्व दिया गया है। शोध के मुताबिक शारिक सक्रियता से नये न्युरॉन बनते हैं, जिनका याददाश्त, मूड और सीखने से बड़ा गहरा रिश्ता है। इस प्रक्रिया को रोज़मर्रा के व्यवहार से एक दिशा दी जा सकती है। यानि स्कूलों में पढ़ाई के साथ-साथ खेल वाली गतिविधियों को भी विशेष महत्व देना चाहिए।

खेलने का मिले भरपूर मौका

भारत में प्राथमिक शिक्षा, एजुकेशन मिरर, अर्ली लिट्रेसी, शारीरिक सक्रियता है ब्रेन बेस्ड लर्निंग की अहम रणनीतिप्रारंभिक बाल्यावस्था में होने वाली शारीरिक गतिविधियां मस्तिष्क को ज्यादा सक्रिय बनाते हैं। स्कूल इस दिशा में काफी कुछ कर सकते हैं और उन्हें करना चाहिए। स्कूल में दोपहर के ब्रेक में, क्लासरूम में बच्चों को शारीरिक रूप से सक्रिय होने का मौका देना चाहिए।

इस तरह की गतिविधियों के दौरान निकलने वाले रसायन चिंतन, ध्यान केंद्रित करने, सीखने और याददाश्त अच्छी रखने  में मदद करते हैं। स्कूल खुलने के दौरान पहले एक-दो सप्ताह में छात्रों का परिचय तमाम तरह की नई-नई गतिविधियों से कराना चाहिए। फिर उनको पसंद की गतिविधियां करने का विकल्प देना चाहिए। स्वैच्छिक रूप से होने वाली गतिविधियां दबाव से होने वाली गतिविधियों की तुलना में ज्यादा फायदेमंद होती हैं। इस पहलू का भी ध्यान हमें रखना चाहिए।

आने वाली पोस्ट में ‘ब्रेन बेस्ड लर्निंग’ की अन्य रणनीतियों और पहलुओं की बात करेंगे।

Advertisements

इस पोस्ट के बारे में अपनी टिप्पणी लिखें।

%d bloggers like this: