Trending

टीचर चेंजमेकर समिटः प्रेरित शिक्षकों के प्रयास ने लिखी बदलाव की कहानी

teacher-change-maker-summit-2राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (राज्य  कार्यक्रम की मुख्य अतिथि होंगी बेसिक शिक्षा राज्य मंत्रीएससीईआरटी), लखनऊ और स्टर एजुकेशन द्वारा उत्तर प्रदेश के परिषदीय विद्यालयों में पढ़ाने वाले 502 शिक्षकों को सम्मानित करने के लिए ‘टीचर चेंजमेकर समिट-2017’ का आयोजन किया गया।

इस कार्यक्रम के महत्व को रेखांकित करते हुए माननीय बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्रीमती अनुपमा जायसवाल ने अपना वीडियो संदेश शिक्षकों के साथ साझा करने हेतु प्रेषित किया, जिसे कार्यक्रम के दौरान प्रसारित किया गया।

इस कार्यक्रम के दौरान उत्तर प्रदेश के विभिन्न ज़िलों से एससीईआरटी-स्टर द्वारा चयनित 46 शिक्षकों के नवाचारों की पुस्तिका ‘नवोन्मेष-2017’ का विमोचन भी किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन लाल बहादुर शास्त्री गन्ना किसान संस्थान, लखनऊ के सभागार में किया गया। इसके साथ ही परिषदीय विद्यालयों में शिक्षण विधियों में नवाचार करने वाले लखनऊ, कानपुर नगर, रायबरेली, उन्नाव और फैजाबाद ज़िले के 502 शिक्षकों को द्वारा प्रमाण पत्र देकर सम्मानित भी किया गया। इस कार्यक्रम में 148 शिक्षकों को नवाचार के लिए रोहैम्पटन यूनिवर्सिटी, लंदन का प्रमाण पत्र भी दिया गया। रोहैम्पटन यूनिवर्सिटी, लंदन विश्व की अग्रणी ‘शिक्षक प्रशिक्षण’ संस्थाओं में से एक है।

गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के प्रतिबद्ध है बेसिक शिक्षा विभाग

director-scert-sarvendra-vikarm-bahadur-singh-1उक्त वीडियो संदेश में माननीय मंत्री ने शिक्षकों को संबोधित करते हुए कहा, “बेसिक शिक्षा विभाग बच्चों की गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए प्रतिबद्ध है।  शिक्षा कैसे गुणवत्तापरक हो इसके सरकार, समुदाय और शिक्षकों का समन्वित प्रयास बहुत ही आवश्यक है। मुझे प्रसन्नता है कि एससीईआरटी और स्टर शिक्षकों को ऐसे नवाचारों को करने में और शिक्षकों से साझा करने में बहुत ही सराहनीय पहल कर रहा है। मेरी शुभकामनाएं आप सबके साथ हैं। इस समिट में आए शिक्षकों का धन्यवाद। आशा करती हूँ कि घर-घर शिक्षा का दीप जलाने में हमारी मदद करेंगे।”

एससीईआरटी, लखनऊ के निदेशक डॉ. सर्वेन्द्र विक्रम बहादुर सिंह ने परिषदीय शिक्षकों के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा, “शिक्षकों को अपने हर एक प्रयास और मेहनत को करते समय बच्चों के सीखने की प्राथमिकता का ध्यान रखना चाहिए। कक्षा में पढ़ाते समय तकनीकी से जुड़े हुए नवाचारों को भी बढ़ावा दें। एससीईआरटी ने शिक्षकों की प्रोफ़ेशनल लर्निंग कम्युनिटी बनायी है, जिसमें विभिन्न विषयों के शिक्षक एक-दूसरे के साथ विचारों का आदान-प्रदान करते करते हैं और एक-दूसरे से सीखते हुए बच्चों के अधिगम स्तर में बढ़ोत्तरी का प्रयास करते हैं।“

‘शिक्षकों की आंतरिक प्रेरणा को सतत बनाए रखने के लिए सहयोग करता है स्टर’

teachers-showing-their-innovation-3इस मौके पर स्टर एजुकेशन के राष्ट्रीय निदेशक संदीप मिश्रा ने कहा, “स्टर एजुकेशन विभिन्न राज्यों की सरकारों के साथ भागीदारी के जरिए शिक्षकों के आतंरिक प्रेरणा को सतत बनाए रखने के लिए सहयोग करता है, जिससे बच्चों की गुणवत्तापरक शिक्षा को सुनिश्चित किया जा सके। वर्तमान में उत्तर प्रदेश में लगभग 20,000 शिक्षकों के साथ कार्यक्रम के संचालन में एससीईआरटी, उत्तर प्रदेश की मदद कर रहा है। आने वाले समय में राज्य के प्रत्येक शिक्षक को इस कार्यक्रम से जोड़ने हेतु सरकार का सहयोग करने के लिए प्रतिबद्ध है। उत्तर प्रदेश के अतिरिक्त स्टर दिल्ली एवं कर्नाटक की सरकारों को सहयोग प्रदान कर रहा है।“

एससीईआरटी, लखनऊ और स्टर एजुकेशन द्वारा साल 2014 में टीचर चेंजमेकर मूवमेंट’ की शुरूआत लखनऊ से की गयी। वर्तमान में इस कार्यक्रम से 10 ज़िलों के 8,741 परिषदीय विद्यालयों के 19,047 शिक्षक जुड़े हुए हैं, जो लगभग 6 लाख बच्चों के अधिगम स्तर को सकारात्मक ढंग से प्रभावित कर रहे हैं। इस कार्यक्रम में शामिल ज़िले हैं लखनऊ, कानपुर नगर, उन्नाव, फैजाबाद, रायबरेली, बाराबंकी, वाराणसी, जौनपुर, चंदौली और मिर्जापुर।

इस कार्यक्रम में एससीईआरटी, लखनऊ के निदेशक डॉ. सर्वेन्द्र विक्रम बहादुर सिंह और संयुक्त निदेशक अजय सिंह के साथ-साथ स्टर एजुकेशन के राष्ट्रीय निदेशक संदीप मिश्रा मौजूद थे। इसके साथ ही लखनऊ, कानपुर नगर, फैजाबाद, रायबरेली, उन्नाव, बाराबंकी के डायट प्राचार्य और बेसिक शिक्षा अधिकारी और खण्ड शिक्षा अधिकारियों ने भी प्रतिभाग किया।

Advertisements

%d bloggers like this: