Trending

लिट्रेसी हीरोज़-1: महेन्द्र सर की कक्षा में नियमित स्कूल आने वाले 80-90 फीसदी बच्चे पढ़ते हैं किताब

sirohi-mahendra-ji

राजस्थान का सिरोही ज़िला माउण्ट आबू के पहाड़ों और सुहाने मौसम के लिए पूरी दुनिया में जाना जाता है। सौंफ के खेतों की खुशबू यहाँ से निकलकर देश के विभिन्न हिस्सों में पहुंचती है। आदिवासी अंचल के बारे में तमाम तरह का मान्यताएं और धारणाएं बीते कुछ सालों में बदली हैं। शिक्षा के क्षेत्र में बढ़ती जागरूकता ने इस क्षेत्र को एक नई पहचान दिलाई है। इस क्षेत्र में 2 सालों तक ‘लिट्रेसी कार्यक्रम’ में काम करने के दौरान ऐसे शिक्षकों की कहानियों से रूबरू होने का मौका मिला जो वास्तव में ‘लिट्रेसी हीरोज़’ कहलाने के हक़दार है। उनकी कहानियां लिखना, उनके योगदान के प्रति आभार जताने जैसा है। तो लिट्रेसी हीरोज़ की पहली सीरीज़ में पढ़िए राजस्थान के उच्च प्राथमिक विद्यालय के एक शिक्षक महेन्द्र सिंह दहिया की कहानी।

सरकारी विद्यालय में पिछले 19 सालों से कक्षा 1 से 5 तक के बच्चो को हिन्दी पढ़ाने के काम पूरी लगन के साथ कर रहे हैं। इन 19 वर्षां की सेवा के दौरान 3 विद्यालयों में उन्होनें कार्य किया है। ये अपने कार्य के प्रति पूरी तरह से समर्पित रहते है तथा हमेशा समय के पाबंद रहते है। साथी शिक्षकों के लिए हमेशा बच्चों के साथ कार्य को लेकर आदर्श रूप में अपना उदाहरण पेश किया है। पढ़ना-लिखना सिखाने के बारे में उनके क्या सुझाव हैं, पढ़िए विस्तार से।

बच्चों को पढ़ना-लिखना सिखाने के लिए ख़ास टिप्स

sirohi-1

  • कक्षा की शुरूआत के एक माह के दौरान कभी भी बच्चों को डांटना नहीं चाहिए।
  • शुरूआती एक महीने के दौरान बच्चों से अनौपचारिक बातचीत करें, कविता व कहानी सुनाएं और बच्चों को अपनी मातृभाषा में अपनी बात कहने का भरपूर अवसर दें।
  • इसी एक महीने के दौरान बच्चों को कक्षा में बैठने और बाहर जाने के लिए पूछने जैसे नियम बताएं।
  • बच्चों को लिखने का पूर्वाभ्यास (घसीटा लेखन) का पर्याप्त मौका दें
  • इस दौरान बच्चों पर ध्यान दें और देखें कि कौन सा बच्चा सक्रिय भागीदारी नहीं कर रहा है, उसको भागीदारी के लिए मोटीवेट करके तैयार करने का लक्ष्य होता है।

बच्चों के परिवेश को समझना है जरूरी

sirohi-6

  • अगर हम चाहते हैं कि नियमित स्कूल आने वाले सभी बच्चे सीखें तो इसके लिए जरूरी है कि शिक्षक व बच्चे नियमित रूप से कक्षा में आएं।
  • महेन्द्र सर कहते हैं कि एक अच्छा शिक्षक होने के नाते हमें पता होना चाहिए कि बच्चे कहाँ से तथा किस परिवेश से विद्यालय आ रहे हैं
  • इसके साथ ही अगर कोई बच्चा 2-3 दिन से विद्यालय नहीं आ रहा है तो हमें उनके अभिभावकों से फ़ोन या घऱ पर जाकर बात करनी चाहिए कि बच्चा विद्यालय क्यों नहीं आ रहा है? इस तरीके से हम बच्चों की नियमितता को जारी रख सकते हैं।
  • बच्चों को पढ़ना-लिखना सीखने व सिखाने में सबसे अहम रोल कक्षा की बैठक व्यवस्था का होता है कि उस कक्षा में सभी बच्चों को शिक्षक आसानी से देख पाएं तथा बच्चें भी बोर्ड को आसानी से देख सकें। इसके लिए वे एक बात बताते है कि जहाँ तक संभव हो हमें बच्चों को यू आकार (U) में बैठाना चाहिए जिससे शिक्षक की पहुंच भी आसानी से सभी बच्चों तक बनी रहती है।

जरूरत के अनुसार शिक्षण के तरीके में करें बदलाव

classroom-1

  • कक्षा में शिक्षण से पहले हमारे पास एक योजना होनी जरूरी है कि हमें आज क्या करना चाहिए। इससे बतौर शिक्षक हमें काम करने की एक दिशा मिलती है।
  • वे कहते हैं कि एक शिक्षक को यह भी पता होना चाहिए कि कौन सा बच्चा सीख रहा है तथा कौन सा बच्चा सीखने में संघर्ष कर रहा है या फिर पीछे है, तो उस बच्चें को कक्षा में शिक्षण के दौरान बोलने के ज्यादा अवसर देने होंगे। ताकि वह भी सीखने के लिए प्रोत्साहित हो सके।
  • कुछ वर्ण जो कि बच्चों को बनाने में कठिन लगते हैं, उनको हम बच्चे जो कि अक्सर चित्र बनाते या वैसे ही लाइने खींचते रहते हैं, उनके उपयोग से आसानी से सीखा सकते है। जैसे- इ और ह बनाना हो तो बच्चे साँप की आकृति बनाते रहते तो उसके माध्यम से आसानी से बनाना सीखाया जा सकता है। ऐसे ही क्ष को बनाने के लिए बताते है कि इसको हम 2 से बनाना सीख सकते है। ऐसे ही म और ए को आसानी से ।। लाइनों को बराबर लिखकर उसके माध्यम से आसानी से सिखाया जा सकता है।
  • वे मात्राओं के संदर्भ में बताते है कि किसी भी मात्रा के लिए 7 वर्ण तथा एक नई मात्रा सीखाने के बीच 6 वर्णों का अभ्यास देना जरूरी होता है।
  • अंत में वे एक बेहद महत्वपूर्ण बात कहते हैं कि शिक्षक इन बच्चों के साथ नियमित रूप से कार्य करें तथा आवश्यकता के अनुसार अपने पढ़ाने के तरीके में बदलाव करें।

साल 2015 से पहले भाषा शिक्षण का तरीका

साल 2015 से पहले अपने भाषा शिक्षण के तरीके के बारे में बताते हुए महेन्द्र सर कहते हैं कि वे भी पहले प्रतिदिन अ से ज्ञ तक बच्चों से बुलवाना व लिखवाने का कार्य करवाते थे । तथा फिर एक एक मात्रा को बताना तथा उसका अभ्यास करवाने पर बल दिया करते थे। इस दौरान बहुत सारा समय लग जाता था और जो बच्चों के सीखने का प्रतिशत भी प्रतिदिन विद्यालय आने वालों का 50-60 प्रतिशत ही बच्चे केवल किसी पाठ को केवल डिकोड भर कर पाते थे ।

भाषा शिक्षण में बदलाव से 85 से 90 फीसदी बच्चे पढ़ पाते हैं किताब

चूकि कार्य के दौरान इनकी सकारात्मक सोच रहती है, अतः बच्चों को सिखाने वाला कोई नया तरीका जिससे बच्चों को फायदा मिल सके उसको आसानी से स्वीकार करते है। इसी सोच से इन्होने रूम टू रीड के लिट्रेसी कार्यक्रम का अपनी कक्षा में सफल रूप से क्रियान्वयन किया और इस तरीके पर कार्य करने के दौरान स्वीकारोक्ति बनी कि बच्चों को वर्णां के साथ साथ मात्रा व शब्दों को शब्द के रूप में पढ़ने के अभ्यास का अवसर देना चाहिए।

20160725_102322

इससे कुछ समय के बाद ही बच्चों को लगने लगता है कि उनको पढ़ना आ गया और उनके पढ़ने के प्रति लगाव बढता जाता है।अभी बच्चों के सीखने का प्रतिशत भी प्रतिदिन विद्यालय आने वालों का 85-90 प्रतिशत बच्चे किसी पाठ को समझ के साथ धाराप्रवाह से पढ पाते है। यानि वे न सिर्फ किताब पढ़ते हैं, बल्कि उस पाठ विशेष से जुड़े सवालों के जवाब भी दे पाते हैं।

मैं चाहता हूँ कि हर बच्चा पढ़ना-लिखना सीखे

महेन्द्र सर चाहते है कि विद्यालय में कोई भी बच्चा ऐसा नहीं हो जिसको पढ़ना-लिखना नहीं आता हो। इसके लिए 1 से 5 तक के सभी बच्चों का आकलन कर उनको पढ़ाने की योजना बनाते है। फिर उन बच्चों को एक नया कौशल सिखाने के लिए जुट जाते हैं। अभी 2 साल के दौरान कक्षा 1 व 2 को पढ़ाने को लेकर उनके जो अनुभव रहे हैं, उनको वे कक्षा 5 के बच्चों को पढ़ना-लिखना सीखाने के लिए काम में ले रहे है और जैसे ही बच्चे पढने लगे है , उनके चेहरे पर एक खुशी आती है, जिसे वे सभी शिक्षक साथियों के साथ शेयर करते है।

महेंद्र सर सही अर्थों में एक ‘लिट्रेसी हीरो’ वाली भूमिका का निर्वाह कर रहे हैं। उन्होंने शिक्षक प्रशिक्षणों के दौरान जो सीखा है, उसे कक्षा-कक्ष में क्रियान्वित करने का प्रयास सफलतापूर्वक कर रहे हैं। अपने अनुभवों को अन्य शिक्षक साथियों के साथ साझा कर रहे हैं। अपने विद्यालय के पुस्तकालय तक उन्होंने पढ़ना सीखने की प्रक्रिया में लगे बच्चों के लिए पहुंचना आसान किया। इस प्रयास ने न सिर्फ बच्चों को पढ़ना-लिखना सिखाया है, बल्कि उनके पढ़ने की आदत का भी विकास किया है ताकि बच्चे आजीवन पाठक बने रहें।

एजुकेशन मिरर की पूरी टीम की तरफ से महेंद्र जी के प्रयासों को सलाम है। अगर आप भी ऐसे प्रयास कर रहे हैं तो साझा करें, अपनी कहानी एजुकेशन मिरर की ख़ास सीरीज़ ‘लिट्रेसी हीरोज़’ के लिए।

Advertisements

%d bloggers like this: